अब दौलतापुर रेलवे लाइन की तरफ बढ़ी शारदा नदी

अब दौलतापुर रेलवे लाइन को आगोश में लेने को बढ़ी शारदा नदी
रेलवे प्रशासन ने शुरू कराया इंतजाम, नदी ने कटान का दायरा भी बढ़ाया
जलस्तर कम होने से बढ़ने लगा कटान

पलियाकलां। इलाके में बीते 24 घंटों में कम बारिश होने की वजह से शारदा नदी का जलस्तर तो कम होने लगा है, लेकिन नदी ने कटान का दायरा काफी हद तक बढ़ा लिया है। इसमें सबसे ज्यादा नदी जंगल नंबर सात, छंगाटांडा में कटान कर रही है। यही नहीं नदी ने दौलतापुर के पास रेलवे लाइन को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। जिसपर सतर्क हुआ रेलवे प्रशासन लकड़ी के बॉक्स में बालू की बोरियों व ईंट पत्थरों से कटान को रोकने का इंतजाम कर रहा है। रेलवे का यह कार्यक्रम बीते तीन-चार दिनों से लगातार चल रहा है। दौलतापुर की शारदा चुंगी के पास रेलवे के कर्मचारी दिनरात एक कर लाइन को बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

बता दें कि बीते कई दिनों से इलाके में लगातार तबाही मचा रही शारदा नदी का रुख उस समय कम हो गया जब इलाके में बारिश कम हुई। जल आयोग के अनुसार नदी अभी भी खतरे के निशान से एक मीटर आठ सेमी ऊपर है। लेकिन नदी का जलस्तर कम हो रहा है। नदी का जलस्तर कम होने से नदी ने कटान का दायरा भी बढ़ा दिया है। सबसे ज्यादा नदी जंगल नंबर सात व छंगाटांडा में कटान कर रही है। यहां पर ग्रामीण अपना सामान समेटकर पलायन करने को मजबूर हो गए हैं। क्योंकि नदी काफी तेज बहाव के साथ यहां पर कटान कर रही है। जिससे ग्रामीण भयभीत होकर गांव छोड़ रहे हैं।

नयापुरवा में भी कटान तेज, कई घर निशाने पर मझगईं। इलाके के नयापुरवा में भी शारदा नदी ने कटान तेज कर दिया है। यहां पर कई घर शारदा नदी के निशाने पर खड़े हैं। नदी तेजी से भूकटान कर रही है जिससे ग्रामीणों के चेहरों पर चिंता की लकीरें उभर आई हैं। कई ग्रामीणों के घर पर तो नदी का पानी भर गया है, ग्रामीण यहां से पलायन करने को मजबूर होने लगे हैं। इसके साथ ही कुंवरपुर कलां, खालेपुरवा, विष्नूपुर, दुबहा आदि गांवों में भी बाढ़ का खतरा बरकरार है जिससे यहां के ग्रामीण भी काफी भयभीत हैं।

सुतिया नाले के रपटा पुल पर अभी भी चल रहा पानी महंगापुर। सुतिया नाले के रपटा पुल पर बाढ़ का पानी अभी भी चल रहा है। वहीं लगदहन गांव में भी पानी तो कम हुआ है लेकिन जलभराव की स्थिति यहां भी बनी हुई है। जिससे ग्रामीणों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मिर्चिया गांव में भी बाढ़ के हालात सामान्य नहीं हुए हैं। यहां पर ग्रामीण नाव से आवागमन कर रहे हैं। प्रशासन की तरफ से यहां पर नाव लगवाई गई हैं। जिससे ग्रामीण आवागमन करने को मजबूर हैं।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail