इलेक्ट्रिक इंजन से दौड़ेगी ट्रेन, बढ़ेगी स्पीड

हरिद्वार- लक्सर के बीच दो माह के भीतर इलेक्ट्रिक इंजनों से ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। इससे यात्रियों के साथ ही ट्रेन संचालन से जुड़े कर्मियों को भी सहूलियत होगी।

बृहस्पतिवार को ऐथल रेलवे स्टेशन पर मास्ट इरक्शन (विद्युत पोल)संबंधी कार्यो का शिलान्यास करते हुए मुरादाबाद डिवीजन के मंडल रेल प्रबंधक सुनील कुमार माथुर ने कहा कि हरिद्वार से दून तक विद्युतीकरण की योजना है। पहले चरण में हरिद्वार-लक्सर के बीच विद्युतीकरण होना है। इस दिशा में कार्य जोरों पर है। ज्वालापुर रेलवे फाटक के पास सब स्टेशन के निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है। विद्युत खंभे (मास्ट इरेक्शन) लगाने का कार्य भी जल्द शुरू हो जाएगा। जिस तेजी से काम चल रहा है उससे दो माह के भीतर इस रेलखंड पर विद्युत इंजनों के जरिये ट्रेनों के संचालन की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि इलेक्ट्रिफिकेशन से ट्रेनों की स्पीड (एक्सिलरेशन) बढ़ेगी, जिससे यात्रियों को सहूलियत होगी। लक्सर जंक्शन पर इंजन बदलने (शंटिंग) में लगने वाला वक्त भी बचेगा। इससे ऑपरेटिंग स्टाफ को भी सहूलियत होगी। फिलहाल सहारनपुर-दून (डीएलएस पैसेंजर) और अमृतसर-दून (लाहौरी एक्सप्रेस) के इंजन लक्सर में बदले जाते हैं। इस प्रकिया में करीब 20 मिनट का वक्त लगता है। विद्युतीकरण से ऊर्जा की बचत के साथ पर्यावरण को प्रदूषित होने से भी बचाया जा सकेगा। इससे पूर्व डीआरएम ने विधिवत पूजा अर्चना के साथ खभे लगाने के कार्यो का शुभारंभ किया। इस मौके पर डिप्टी सीईई (कंस्ट्रशन) एमके सेमवाल, सीनियर डीईई केडी सिंह समेत, सीनियर डीईई केडी सिंह, डीएसई विनीत कुमार और मोहित कुमार, ईई कंस्ट्रशन इलियास हुसैन, एसएसई इलेक्ट्रिकल दीपक अग्रवाल समेत रेलवे के कई अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित रहे।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail