एनजीटी आदेशों के कार्यान्वयन के लिए पूसीरे त्वरित कदम उठा रही है

मालीगाँव, 13 जून, 2019 – एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल) अपने आर्डर दिनांक 22.01.2019 के तहत भारतीय रेल को स्वच्छता बरकरार रखने के लिए स्टेशन वार एक्शन प्लान तैयार करने के लिए अपने 720 स्टेशनों में से 5 प्रतिशित स्टेशनों को चिन्हित करने को कहा है। बीआईएस द्वारा निर्धारित पर्यावरण मानक आईएसओ-14001 के अनुसार ईको स्मार्ट स्टेशन की सूची में शामिल करने के लिए पू. सी. रेल के गुवाहाटी स्टेशन तथा कटिहार स्टेशन को संबंधित सूची में शामिल किया गया है। गुवाहाटी स्टेशन को आईएसओ-14001 अभिप्रमाणन हासिल हो चुका है। आईएसओ-14001 बीआईएस अभिप्रमाणन की मूल आवश्यकता स्वच्छता का रखरखाव, ठोस अपशिष्टों का पर्याप्त निपटान, पेट बोतल श्रेडर होना, गंदगी रोधक कार्यकलाप, जल प्रबंधन, रेल की पटरी पर मल त्याग से बचना, अतिक्रमणों को हटाना, ऊर्जा प्रबंधन, हरियाली एवं पौधरोपण, जनसाधारण    की टिप्पणियां/शिकायतें इत्यादि ग्रहण करना है।

इस परियोजना के अंतर्गत ज्यादा से ज्यादा स्टेशनों को शामिल किया जाएगा। इस पहले के अनुसार पू. सी. रेल प्राधिकारी रेलवे स्टेशनों पर प्लास्टिक के प्रयोग पर पाबंदी तथा ठोस एवं प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन के लिए विभिन्न क्षेत्रों के उपनगरीय स्थानीय निकायों से समन्वय कायम करेंगे। नियमित अंतराल पर जल एवं ऊर्जा ऑडिट किया जाएगा। इसके अलावा, माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार नुकसान की लागत पुनरुद्धार करने के लिए रेलवे पोलुटर पे सिद्धांत का भी प्रयोग कर सकते हैं। सूचना दिए जाने के बाद भी कचरों को फेंकना जारी रखने वाले व्यक्तियों से संबंधित पुलिस/जीआरपी की मदद से रु. 5000/- का जुर्माना संग्रह करने के लिए रेलवे प्राधिकारी को अधिकृत किया गया है। चरणबद्ध कार्यान्वयन के लिए एक वर्ष के अंदर शेष बचे हुए सभी प्रमुख स्टेशनों के लिए डेटा एवं एक्शन प्लान तैयार करने का कार्य जारी है। इन क्षेत्रों में कचरों से जनसाधारण की स्वास्थ्य को नुकसान होने से बचाने के लिए प्लेटफॉर्मों, रेलवे ट्रैकों, रिहायसी इलाकों को स्वच्छ रखना है। प्लेटफॉर्मों तथा वैगनों की धुलाई से निकलने वाले एफुलेंट को भूजल में प्रवेश करने से रोकना सुनिश्चित करना, परंतु सिंचाई, धुलाई इत्यादि के लिए उसका दोबारा इस्तेमाल करना। जनसाधारण तथा यात्रियों से शिकायतें तथा सुझाव ग्रहण करने के लिए प्रमुख रेलवे स्टशनो के पास निजी वेबसाइट होना चाहिए। एमएसडब्ल्यू नियम, 2016 के मद्देनजर रेलवे चिन्हित स्थानों पर विकेंद्रीयकृत नगरपालिका ठोस अपशिष्ट संयंत्रों की स्थापना भी करेगी। शहर के रखरखाव एवं स्वच्छ बनाए रखने के लिए रेलवे ठोस तथा प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन के लिए उपनगरीय स्थानीय निकायों से समन्वय भी करेगी।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail