जोधपुर स्टेशन पर लगेगा एस्केलेटर, सभी क्रॉसिंग पर आरयूबी

जोधपुर: जोधपुर रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की सुविधा के लिए एस्केलेटर (स्वचालित सीढ़ियां) लगाया जाएगा। पहले चरण में जयपुर में यह सुविधा शुरू की गई है। अब अजमेर व जोधपुर में एस्केलेटर लगाने का प्रावधान किया गया है।

जोधपुर रेल मंडल से जुड़े क्षेत्रों के सांसदों के साथ उत्तर-पश्चिम रेलवे जोन के महाप्रबंधक आरसी अग्रवाल व उच्च अधिकारियों की बुधवार को जोधपुर में बैठक हुई। बैठक में महाप्रबंधक ने बताया कि मानव रहित फाटकों पर दुर्घटनाएं रोकने के लिए वहां आरयूबी बनाए जा रहे हैं। जोन में 102 आरयूबी बन चुके हैं। सांसद बद्रीराम जाखड़ ने जोधपुर स्टेशन के बाहर पार्किग की समस्या बताते हुए कहा कि वाहन निकालने में ही यात्री के 15 से 20 मिनट खराब होते हैं।

स्टेशन पर साफ-सफाई ढंग से नहीं होती। जाखड़ ने जोधपुर कैंट व राईकाबाग स्टेशनों पर प्रमुख ट्रेनों का ठहराव करने, गोटन स्टेशन की व्यवस्थाओं को सुधारने और पाली में रेल सुविधाओं का विस्तार करने की मांग की। सांसद रामसिंह कास्वा ने जोधपुर-दिल्ली सराय रोहिल्ला वाया डेगाना ट्रेन को नियमित कर इसे दिल्ली तक बढ़ाने और सुजानगढ़ स्टेशन के प्लेटफॉर्म को हाई लेवल करने की बात कही। सांसद अर्जुन मेघवाल ने आरयूबी के कार्य में तेजी लाने, ट्रेनों में जनरल कोच बढ़ाने और लाडनूं को आदर्श स्टेशन बनाने का सुझाव दिया।

व्हील व बियरिंग शॉप का उद्घाटन

महाप्रबंधक ने गुरुवार को रेलवे वर्कशॉप में नवनिर्मित रोलर बियरिंग शॉप व व्हील शॉप का भी उद्घाटन किया। इस दौरान मंडल रेल प्रबंधक राजेंद्र जैन, मुख्य यांत्रिक अभियंता रमेश कुमार, मुख्य कारखाना प्रबंधक विनीत कुमार सक्सेना व जोन के अन्य अफसर मौजूद थे।

आठ सांसदों को बुलाया, तीन ही आए

जोधपुर रेल मंडल के विकास और यात्री सुविधाओं पर चर्चा करने के लिए रेलवे ने मंडल से जुड़े संसदीय क्षेत्रों के आठ सांसदों को आमंत्रित किया था, लेकिन तीन ही आए। जोधपुर की बात रखने के लिए केंद्रीय मंत्री व जोधपुर सांसद चंद्रेश कुमारी व बाड़मेर सांसद हरीश चौधरी मौजूद नहीं थे। सांसद चौधरी ने बताया कि वे समय-समय पर रेलवे को अपने सुझाव व प्रस्ताव भेजते रहते हैं। डीआरएम ऑफिस में हुई इस बैठक में सांसद कम रेलवे के अफसर ज्यादा थे। बैठक में मौजूद तीन सांसदों ने अपने क्षेत्र से जुड़ी समस्याएं बताईं।

अब नहीं अटकेंगी मालगाड़ियां

राईकाबाग से जैसलमेर की ओर जाने वाली मालगाड़ियां अब महामंदिर से पहले चढ़ाई पर नहीं अटकेंगी। रेलवे ने राईकाबाग में इंटरलॉकिंग व कलर लाइट सिग्नल प्रणाली से ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया है। उत्तर-पश्चिम रेलवे जोन के महाप्रबंधक आरसी अग्रवाल ने गुरुवार को इस सिस्टम का उद्घाटन किया। अभी तक मालगाड़ियों में दो इंजन लगाकर उन्हें महामंदिर से पहले चढ़ाई पार करवाई जाती थी। इस दौरान कई पैसेंजर ट्रेनों को दूसरे स्टेशनों पर इंतजार करना पड़ता था।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail