डीआरएम/फिरोजपुर को तीन घंटे तक ट्रेन में बनाया बंधक

Jammu Tawi (JAT) जम्मू:  फिरोजपुर डिवीजन के वरिष्ठ अधिकारियों पर कर्मचारियों की लंबित मांग को न मानने का आरोप लगाते हुए जम्मू रेलवे स्टेशन पर तैनात सैंकड़ों रेल कर्मियों ने डिवीजनल रेलवे मैनेजर निर्मल चंद गोयल का घेराव किया। प्रदर्शनकारियों ने डीआरएम को अपनी विशेष बोगी से स्टेशन पर उतरने तक नहीं दिया, जिससे वह तीन घंटे तक बोगी में बंद रहे। प्रदर्शन में फंसे डीआरएम की बोगी को इंजन लगाकर धरना स्थल से निकला लगा। रेलवे कर्मियों ने नार्दर्न रेलवे मैन्स यूनियन (एनआरएमयू) के शाखा प्रधान सुभाष डोगरा की अध्यक्षता में प्रदर्शन किया।

शुक्रवार सुबह सात बजे फिरोजपुर से जम्मू पहुंची अहमदाबाद एक्सप्रेस में डीआरएम रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। डीआरएम को ऊधमपुर और कटड़ा रेलवे स्टेशन का दौरा करना था और उनकी विशेष बोगी को जम्मू मेल एक्सप्रेस के जम्मू पहुंचने के बाद ट्रेन के साथ ऊधमपुर रवाना करना था। डीआरएम की विशेष बोगी को पार्सल रूम के पास ले जाया गया। पार्सल के बाहर पहले से ही सैंकड़ों रेल कर्मी डीआरएम के पहुंचने के इंतजार कर रहे थे। कर्मचारियों ने प्रदर्शन शुरू करते हुए डीआरएम को बोगी से बाहर नहीं आने दिया। हालांकि जम्मू मेल भी स्टेशन पर पहुंच गई, लेकिन प्रदर्शनकारियों ने डीआरएम की बोगी को वहां से हटने नहीं दिया। रेलवे अधिकारियों पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए रेलकर्मियों ने डीआरएम गो बैक के नारे लगाए। सुबह दस बजे के करीब जब डीआरएम बोगी से बाहर नहीं आ पाए तो उसके बाद रेलवे अधिकारियों ने उनकी विशेष बोगी को एक इंजन के साथ बांधा और प्लेटफॉर्म नंबर दो की ओर ले गए, जहां से उन्हें अपने गंतव्य की ओर ले जाया गया। प्रदर्शन के दौरान ज्ञान डोगरा, बलवीर सिंह, केके शर्मा, कुलभुषण सिंह, गुरदास ठाकुर, विनोद नुरी, तारा चंद ने कर्मियों को संबोधित किया।

रेल कर्मियों की मुख्य मांगें

– वीआरएस हासिल करने वाले कर्मचारियों को भुगतान देना।
– रेलवे कर्मियों के रिहायशी क्वार्टर की मरम्मत करवाना।
– सिग्नल एवं ट्रैफिक विभाग के हेल्पर का तबादला न करना।
– ट्रैक मेन से रेलवे की भूमि न छीनी जाए।
– वाशिंग लाइस में साफ सफाई करवाई जाए।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail