SCR के प्रधान कार्यालय में आयोजित क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्वयन समिति व मुख्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक का आयोजन

दक्षिण मध्य रेलवे, सिकंदराबाद मुख्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक का आयोजन

सिकंदराबाद – दक्षिण मध्य रेलवे के प्रधान कार्यालय, सिकंदराबाद में पुनर्गठित मुख्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक श्री अ.आ.फडके, मुख्य राजभाषा अधिकारी एवं प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर की अध्यक्षता में दि.19.06.018 को आयोजित की गई. इस बैठक में प्रधान कार्यालय के सभी विभागों और इसके अंतर्गत आनेवाले सभी यूनिटों के सदस्यों ने भाग लिया.

सदस्य सचिव एवं राजभाषा अधिकारी/प्र.का. श्री एम.के.नागराजु के स्वागत भाषण के साथ बैठक आरंभ हुई.

अध्यक्ष एवं मुख्य राजभाषा अधिकारी ने मुख्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति के पुनर्गठन के उद्देश्य को बताते हुए कहा कि इस समिति के माध्यम से मुख्यालय के हर विभाग और यूनिट में राजभाषा का कार्य बढाना है. इस समिति के लिए नामित सदस्य राजभाषा संपर्क अधिकारी के रूप में काम करेंगे और अपने-अपने विभाग में राजभाषा कार्यान्वयन संबंधी कार्य का नियमित रूप से जायज़ा लेंगे. इसके लिए राजभाषा विभाग हर प्रकार से सहायता करेगा, राजभाषा विभाग अन्य विभाग के कर्मचारियों को प्रशिक्षित, प्रेरित करेगा, उनके मार्गदर्शन देगा. विभागों में राजभाषा का कार्य बढाने की जिम्मेदारी उस विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों की होगी. सदस्यों के साथ निरंतर संपर्क बनाए रखने के लिए और राजभाषा के प्रयोग-प्रसार के लिए एक

Whats App ग्रूप बनाया जाए, जिसमें प्रतिदिन एक हिंदी शब्द और एक हिंदी पर्याय लिखा जाए. इस समिति के उपाध्यक्ष एवं उप महाप्रबंधक (राभा) डॉ.श्याम सुंदर साहु ने अपने संबोधन में कहा कि विभागों में राजभाषा हिंदी में हो रहे कार्य की प्रगति से संबंधित मासिक, त्रैमासिक प्रगति रिपोर्ट समय पर राजभाषा अनुभाग को भेजी जाए. सभी विभागों में अधिकारियों, कर्मचारियों, आशुलिपिकों के हिंदी प्रशिक्षण से संबंधित रोस्टर अद्यतन किया जाए. अधिकारियों द्वारा हिंदी मदों के निरीक्षण के लिए चेक लिस्ट का उपयोग किया जाए. फाइल कवरों और रजिस्टरों पर विषय अनिवार्य रूप से हिंदी-अंग्रेजी द्विभाषिक रूप में बनवाए जाएं.

राजभाषा अधिकारी/प्र.का. श्री एम.के.नागराजु के धन्यवाद प्रस्ताव के बाद बैठक समाप्त हुई.

दक्षिण मध्य रेलवे, सिकंदराबाद क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक संपन्न

दक्षिण मध्य रेलवे के प्रधान कार्यालय, सिकंदाराबद में क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की 158वीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए महाप्रबंधक श्री विनोद कुमार यादव जी ने प्रसन्नता व्यक्त की कि ‘ग’ क्षेत्र में होने के बावजूद इस रेलवे पर राजभाषा के क्षेत्र में बहुत ही सराहनीय कार्य हो रहा है. उन्होंने कहा कि जहां कहीं थोड़ी बहुत कमी रह गई हो उसे पूरा करने की कोशिश की जाए. हिंदी में शत-प्रतिशत कार्य के लिए नामित अनुभागों में हिंदी में काम बढाया जाए. इस रेलवे पर विद्यमान कनिष्ठ अनुवादकों की रिक्तियों को भरने के लिए रेल मंत्रालय के साथ विचार-विमर्श करने का आश्वासन दिया.  इस रेलवे की हिंदी पत्रिका ‘रेल सुधा’ के प्रकाशन के लिए उन्होंने रचनाकारों और राजभाषा संगठन को बधाई दी और कहा कि इसमें प्रकाशित लेखों के स्तर बहुत अच्छा है. राजभाषा के प्रयोग-प्रसार तथा स्थानीय प्रतिभाओं को बढावा देने में ऐसी हिंदी पत्रिकाओं के प्रकाशन का विशेष महत्व होता है और इससे अधिकारियों और कर्मचारियों की साहित्यिक प्रतिभा भी उजागर होती है.

इससे पहले बैठक में उपस्थित सदस्यों का स्वागत करते हुए मुख्य राजभाषा अधिकारी एवं प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर श्री अ.आ.फडके ने कहा कि हर कार्यालय में हर तिमाही में राजभाषा कार्यान्वयन बैठकों का आयोजन करना अनिवार्य है. समिति के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श से राजभाषा मदों में प्रगति की जा सकती है. मुख्यालय द्वारा जारी वार्षिक कार्ययोजना के अनुसार सभी कार्यालयों में राजभाषा के प्रयोग-प्रसार संबंधी कार्यक्रमों का आयोजन किया जाए.

बैठक  के दौरान उप महाप्रबंधक (राजभाषा) डॉ.श्याम सुंदर साहु ने पिछली तिमाही और पिछले वर्ष के दौरान प्रधान कार्यालय, मंडलों और कारखानों द्वारा किए गए कार्यों का ब्यौरा दिया दिया और राजभाषा कार्यान्वयन संबंधी विविध मदों पर कार्यालयों की प्रगति की समीक्षा की.

इस बैठक में सभी प्रमुख विभागाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष, अपर मंडल रेल प्रबंधक, मुख्य कारखाना प्रबंधक, मुख्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति के सदस्य, राजभाषा अधिकारी/अनुवादक उपस्थित थे. उपस्थित सभी अधिकारियों ने अपने-अपने कार्यालयों में हिंदी में हो रहे कार्य और आगामी तिमाही में किए जानेवाली कार्ययोजना के बारे में जानकारी दी.

श्री एम.के.नागराजु, राजभाषा अधिकारी, प्र.का. के धन्यवाद ज्ञापन के साथ बैठक संपन्न हुई.

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail