पश्चिम रेलवे द्वारा महिला एवं बाल सशक्तिकरण तथा सुरक्षा हेतु कार्य योजना के कार्यान्वयन पर सेमिनार

फोटो कैप्शन: पश्चिम रेल मुख्यालय, चर्चगेट में 11 अगस्त, 2018 को ‘महिला एवं बाल सशक्तिकरण तथा सुरक्षा पर कार्य योजना’ के कार्यान्वयन पर आयोजित सेमिनार में शामिल वरिष्ठ रेल अधिकारीगण।

मुंबई – माननीय रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल द्वारा वर्ष 2018-19 को महिला एवं बाल सुरक्षा को समर्पित वर्ष के रूप में घोषित किया गया है, जिसके अनुपालन में पश्चिम रेलवे रेल परिसरों में महिलाओं और बच्चों के विरुद्ध अपराधों पर नियंत्रण के साथ-साथ इन अपराधों को पूर्णतः खत्म करने के लिए अनेक उपाय कर रही है।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविंद्र भाकर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार इस दिशा में पश्चिम रेलवे मुख्यालय, चर्चगेट में 11 अगस्त, 2018 को ‘महिला एवं बाल यात्रियों के सशक्तिकरण तथा सुरक्षा पर कार्य योजना’ के कार्यान्वयन पर पश्चिम रेलवे द्वारा एक सेमिनार आयोजित किया गया। इसका आयोजन मुख्यालय की महिला सशक्तिकरण समिति द्वारा किया गया, जिसमें प्रमुख वित्त सलाहकार श्रीमती उमा रानडे, मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (एफएम) श्रीमती इति पांडे, उप महानिरीक्षक सह मुख्य सुरक्षा आयुक्त श्री परमशिव तथा पश्चिम रेलवे के सभी छह मंडलों के मंडल रेल प्रबंधकों की अध्यक्षता वाली मंडलीय टीमें शामिल थीं। इस सेमिनार में गतिविधि कैलेंडर की प्रगति तथा प्रोग्राम पर प्राप्त फीडबैक/सुझाव शामिल थे।

श्री भाकर ने बताया कि ‘संवाद’ प्रोग्राम के हिस्से के रूप में लिंग संवेदीकरण पर कार्यशाला, सुरक्षा हेल्पलाइन संख्या 182 एवं चाइल्ड हेल्पलाइन संख्या 1098 के लिए जागरूकता रैली जैसी विभिन्न गतिविधियाँ आयोजित किये गये। इन सभी के अतिरिक्त जागरूकता फैलाने के लिए प्रदर्शनी एवं नुक्कड़ नाटक आयोजित किये गये तथा बालिका विद्यालय एवं महाविद्यालय, शेल्टर होम आदि में दौरे भी किये गये। पश्चिम रेलवे द्वारा आपात स्थिति में महिला एवं बाल यात्रियों की सहायता तथा उन्हें बचाने के लिए मुंबई सेंट्रल, बांद्रा टर्मिनस, सूरत, वडोदरा, अहमदाबाद, रतलाम एवं राजकोट जैसे प्रमुख स्टेशनों पर महिला एवं बाल हेल्प डेस्क स्थापित किये गये हैं। पश्चिम रेलवे ने 2017 में 562 बच्चों को बचाने में सफलता प्राप्त की तथा जुलाई, 2018 तक 265 बच्चों को बचाया जा चुका है।

महिला एवं लड़कियों की मासिक स्वास्थ्य रक्षा पर कार्य करने वाली एनजीओ – वात्सल्य फाउंडेशन के साथ इस प्रकार की संवेदीकरण कार्यक्रम पूरे पश्चिम रेलवे पर आयोजित किये गये, कार्यशाला आयोजित किये गये तथा महिला यात्रियों एवं वडोदरा रेलवे स्टेशन पर अन्य रेल स्टाफ के साथ चर्चा की गई। जुनाइल जस्टिस एक्ट एंड प्रिवेंसन ऑफ चिल्डरेन फ्रॉर्म सेक्सुअल ऑपें€सेज (POCSO) एक्ट पर एक प्रशिक्षण कार्यक्रम वडोदरा सिटीजन काउंसिल के साथ वडोदरा स्टेशन पर आयोजित किया गया, जिसे सचिव एवं अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री एम. ए. मिर्ज़ा द्वारा सम्बोधित किया गया। इसी प्रकार लिंग संवेदीकरण कार्यशालाएँ पुष्पांजलि एजुकेशन एंड चैरिटेबल ट्रस्ट की सहायता से राजकोट स्टेशन पर आयोजित की गईं। नेशनल कमिशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स के साथ भावनगर मंडल द्वारा एक गाइड बुक मुद्रित की गई है तथा सभी स्टेशनों पर इसे उपलब्ध कराया गया है। अहमदाबाद मंडल द्वारा हमसफर ट्रेन में तथा डेमू महिला डिब्बों में सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं। पश्चिम रेलवे के मुंबई मंडल ने एक आरपीएफ व्हाट्सएप ग्रुप ‘सखी’ तथा एक महिला सुरक्षा ऐप ‘आई वॉच’ बनाया है, जो महिला यात्रियों के बीच काफी लोकप्रिय है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail