रायबरेली रेल कोच फैक्ट्री से यूपीएसआईडीसी जोड़ेगा तार

Rae Bareli (RBE) रायबरेली:  पश्मिांचल, ब्रज, इटावा, औरैया इन्वेस्टमेंट जोन और कानपुर लॉजिस्टिक हब की स्थापना की योजना को पंख लगते ही यूपीएसआईडीसी ने एक और औद्योगिक जोन बसाने की तैयारी कर ली। इस योजना के तहत रायबरेली रेल कोच फैक्ट्री के आसपास एक नया औद्योगिक जोन बसेगा। इस जोन में रेल कोच में प्रयोग होने वाले उपकरणों के साथ ही सीट, सीट कवर आदि का उत्पादन किया जाएगा, ताकि कोच बनाने में लागत कम आये और कम समय में लक्ष्य के अनुरूप कोच भी तैयार हो जाएं। साथ ही लोगों को रोजगार के अवसर भी मिल सके।

विश्व बैंक ने अमृतसर-कोलकाता ईस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर और दिल्ली मुंबई डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर के किनारे औद्योगिक जोन बनाने की योजना को मंजूरी देकर आर्थिक मदद भी देने को कहा है। यूपीएसआईडीसी और विश्व बैंक के अधिकारी संयुक्त रूप से इस जोन की स्थापना में कार्य कर रहे हैं। इन कॉरीडोर के किनारे औद्योगिक जोन बनने के बाद करीब एक लाख लोगों को रोजगार मिलना है। साथ ही सूबा भी आर्थिक दृष्टि से समृद्ध होगा। ऐसे में प्रदेश सरकार भी इसे लेकर उत्साहित है। सरकार और विश्व बैंक से मिल रहे सहयोग से उत्साहित यूपीएसआईडीसी प्रबंधन ने रायबरेली में स्थापित हो रहे रेल कोच फैक्ट्री के आसपास ही जोन बनाने की योजना तैयार की है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी इस जोन के प्रस्ताव को मंजूर कर लिया है। जल्द ही विश्व बैंक अधिकारियों से इस मुद्दे पर चर्चा होगी। अगर विश्व बैंक सहयोग करता है तो ठीक, अन्यथा यूपीएसआईडीसी प्रबंधन स्पेशल परपज व्हीकल या फिर प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप के तहत यह जोन बसाएगा। जोन में 80 फीसद से अधिक उद्योग रेल कोच में प्रयुक्त होने वाले सामानों से जुड़े होंगे। रेलवे बोर्ड ने भी इस तरह के उद्योग स्थापना के लिए यूपीएसआईडीसी प्रबंधन से आगे आने के लिए कहा था। ऐसे में प्रबंधन को उम्मीद है कि उसकी यह योजना आसानी से परवान चढ़ जाएगी।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail