रिटर्न में चेक होगा रेलवे से आने-जाने वाला माल

रेलवे द्वारा आने और जाने वाले माल को वाणिज्य कर विभाग व्यापारी के रिटर्न भी चेक किए जाएंगे।

कानपुर : रेलवे द्वारा आने और जाने वाले माल को वाणिज्य कर विभाग व्यापारी के रिटर्न में भी चेक करेगा। विभाग यह नजर रखेगा कि व्यापारी इस खरीद और बिक्री का अपने रिटर्न में ठीक-ठीक उल्लेख कर रहा है या नहीं। इसकी जांच के लिए विभाग ने रेलवे से एक माह में रेलवे से आने और यहां से जाने वाले माल की सूची मांगी है।

कुछ माह पहले अनवरगंज और उसके बाद सेंट्रल स्टेशन पर वाणिज्य कर विभाग के मारे गए छापे में भारी मात्रा में कर अपवंचना का माल मिला था। एक अप्रैल से केंद्रीय ई-वे बिल आया तो यह नियम लागू हो गया कि रेलवे से आने वाले 50 हजार रुपये से अधिक के माल को बिना ई-वे बिल के सुपुर्द नहीं किया जाएगा। रेलवे से आने वाले माल पर ई-वे बिल लिया जा रहा है या नहीं इस पर निगाह वाणिज्य कर विभाग को रखनी है। इस नए निर्देश को आए हुए सोमवार को पूरा एक माह गुजर गया।

इस दौरान वाणिज्य कर विभाग ने रेलवे के अधिकारियों के साथ दो बैठक की हैं। इन बैठकों में दोनों विभागों के बीच तय हुआ है कि किस तरह रेलवे को अपने दस्तावेजों को रखना है ताकि यह साफ हो सके कि कितना माल आ रहा है। इन दो बैठकों के अलावा वाणिज्य कर विभाग ने अब यह जानकारी भी मांग ली है कि एक अप्रैल से अब तक कितना माल रेलवे के जरिए आया है। इस संबंध में वाणिज्य कर विभाग के एक एडिशनल कमिश्नर का कहना है कि विभाग रेलवे से मिले आंकड़ों के आधार पर यह भी आकलन करेगा कि कौन से व्यापारी माल मंगा रहे हैं और कौन बाहर भेज रहे हैं। जो लोग माल मंगा रहे हैं, उनकी खरीद मानी जाएगी। साथ ही जो लोग माल भेज रहे हैं, उनकी बिक्री मानी जाएगी। इन आंकड़ों को व्यापारियों के जीएसटीआर रिटर्न से मिलाकर भी देखा जाएगा कि वे उसका उल्लेख कर रहे हैं या नहीं।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail