MOSR ने सैदपुर भितरी रेलवे स्टेशन पर एसी विद्युत लोकोशेड के शिलान्यास किया। इस लोकोशेड से हजारों लोगों की आजीविका का इंतजाम होगा।

गाजीपुर । रेल राज्यमंत्री व संचार मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा ने कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त के लेख के लिए जाने जाने वाले गाजीपुर के सैदपुर भितरी का नाम एसी विद्युत लोकोशेड बनने के बाद भारतीय रेल में अमर हो जाएगा। पीएम मोदी रेल को सामान्य आदमी के यात्रा का साधन मानते हैं इसलिए रेल पर पर्याप्त धन खर्च किए जा रहे हैं। रेल राज्य मंत्री शनिवार को नगर स्थित सैदपुर भितरी रेलवे स्टेशन पर 100 लोको क्षमता के एसी विद्युत लोकोशेड के शिलान्यास समारोह में बोल रहे थे। कहा कि शुरुआती दौर में यहां 100 लोको का अनुरक्षण किया जाएगा। बाद में इसे 200 लोको क्षमता का बना दिया जाएगा। इसके बनने के बाद आसपास कई छोटे-मोटे कल कारखाने खुलेंगे जिससे हजारों लोगों को आजीविका चलेगी।

रेल सुविधाओं पर ज्यादा खर्च

मंत्री ने कहा कि रेल पर पर्याप्त धन खर्च किया जा रहा है। वर्ष 2009 से 2014 तक 47-48 हजार करोड़ रुपये रेल पर खर्च हुए थे। पिछले वर्ष रेल पर 1.30 हजार करोड़ व इस वर्ष 1.48 हजार करोड़ रुपये खर्च किए गए। उन्होंने इसी तरह अन्य क्षेत्रों में हुए खर्च को बताया। कहा कि पीएम मोदी का उद्देश्य है कि 100 प्रतिशत रेल लाइन को का विद्युतीकरण किया जाए। उन्होंने डीआरएम एसके झां से बात करने के बाद करीब 15 जुलाई को गाजीपुर में बने जोनल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट व गाडिय़ों की धुलाई के लिए बने वाशिंग सेंटर के लोकार्पण की घोषणा की। कहा कि 14 नवंबर 2016 को जिस रेल सह सड़क पुल का शिलान्यास किया था उसका लोकार्पण 14 नवंबर 2019 से पहले बनकर तैयार हो जाएगा। इस रेल सह सड़क पुल का पहला गर्डर 15 दिन बाद रखा जाएगा।

एडीआरएम की सलाह पर लोकोशेड बनाने का लिया निर्णय

सैदपुर भितरी रेलवे स्टेशन पर 100 लोको क्षमता के एसी विद्युत लोकोशेड के शिलान्यास समारोह में शनिवार को रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि मुझे स्मरण है कि मैं दो वर्ष पहले मुगलसराय रेलवे स्टेशन पर था। ट्रेन विलंबित थी। उसी समय एक एडीआरएम मिले जो सैदपुर के ही रहने वाले थे। उन्होंने बताया कि 60 वर्ष पहले यहां लोकोशेड निर्माण को स्वीकृति मिली थी लेकिन अनुकूल जगह न होने के कारण नहीं बन सका। आप प्रयास करें तो इसे औड़िहार या सैदपुर में बनवाया जा सकता है। उसी समय से मैं इसके लिए प्रयासरत था। आज इसका शिलान्यास करते हुए सुकून की अनुभूति हो रही है।

पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक राजीव अग्रवाल ने कहा कि यह लोकोशेड पहले मुगलसराय में बनने वाला था। बाद में बलिया बनने पर बात हुई लेकिन रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के प्रयास से लोकोशेड यहां पर बनना स्वीकृत हुआ। यह लोकोशेड आरबीएनएल द्वारा बनवाया जाएगा। 96.46 करोड़ रुपये से करीब 12 एकड़ क्षेत्रफल में बनाया जाएगा। जीएम ने कहा कि इसके तहत एक इंस्पेक्शन बे, लाइट व मीडियम रिपयेर बे, एक मिसलेनियस, रिपेयर बे, एक पिट व्हील सेट, प्रशासनिक भवन, भंडार भवन, सुरक्षा भवन व अन्य सुविधाओं का निर्माण किया जाएगा। यह सब काफ फेज एक में होगा। भविष्य की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर विस्तार फेज दो का भी प्रावधान किया गया है। इसके बनने से विद्युत इंजनों से यात्री एवं माल गाड़ियों का संचालन होने पर पर्यावरण में भी अपेक्षित सुधार होगा। क्षेत्र के विकास को गति मिलेगी। आसपास के अनुषांगिक उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा। डीआरएम एसके झां ने कहा कि लोकशेड का निर्माण तीव्र गति से किया जाएगा। समय-समय पर इसका निरीक्षण होता रहेगा। शिक्षक विधायक चेतनारायण ¨सह ने भी संबोधित किया। विधान परिषद सदस्य विशाल उर्फ चंचल ¨सह ने कहा कि मैं खुशनसीब हूं कि सैदपुर मेरी विधानसभा है और रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने यहां लोकोशेड के निर्माण को स्वीकृति प्रदान की है। कहा कि सैदपुर में गंगा नदी पर पुल का शिलान्यास भाजपा सरकार में मंत्री रहे कलराज मिश्र ने किया। इसके बाद नेताजी (मुलायम ¨सह यादव), फिर बुआ (मायावती) व फिर अखिलेश की सरकार आई तब करीब 20 वर्षों में पुल बन सका। कहा कि रेल राज्यमंत्री की ही देन है कि गाजीपुर में 22 करोड़ रुपये की लागत से स्टेडियम व मेडिकल कालेज मिला है। इस मौके पर भाजपा के वरिष्ठ नेता कृष्णबिहारी राय, जिलाध्यक्ष भानूप्रताप ¨सह, सच्चिदानंद ¨सह, प्रभुनाथ चौहान, डा. पीएन ¨सह, अविनाश बरनवाल, बसंत सेठ, रघुवंश ¨सह, पप्पू,, अनूप जायसवाल, कार्तिक आदि मौजूद थे।

मनोज सिन्हा ने इस मौके पर कहा कि एसी विद्युत लोको शेड का निर्माण हो जाने पर सहायक उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा तथा रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

कहा कि विगत वर्षों में यात्री सुविधाओं में विस्तार एवं विकास के लिए उल्लेखनीय कार्य किए गए हैं, जिनमें द्वितीय प्रवेश द्वार, स्वचालित सीढ़ियों, लिफ्टों, आटोमेटेड टिकट वेंडिंग, वाटर वेंडिंग मशीनों की स्थापना तथा यात्री बेंचों, यात्री छाजनों एवं नए शौचालयों का प्रावधान प्रमुख है।

बताया कि छपरा-बलिया-गाजीपुर-वाराणसी-इलाहाबाद, भटनी-औड़िहार, इंदारा-दोहरीघाट, मऊ-शाहगंज, औड़िहार-जौनपुर रेल खंड के विद्युतीकरण एवं दोहरीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है। इसी प्रकार इंदारा-दोहरीघाट आमान परिवर्तन का कार्य भी तेजी से चल रहा है। औड़िहार में डेमू शेड की स्थापना के कार्य के साथ ही ताड़ीघाट-गाजीपुर-मऊ नई रेल लाइन एवं गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

समारोह में विधान परिषद सदस्य चेतनारायण सिंह एवं एमएलसी विशाल सिंह ने संचार-रेल राज्य मंत्री की ओर से क्षेत्र के विकास के लिए किए जा रहे कार्यों की सराहना की। वक्ताओं ने उनका ध्यान स्थानीय रेल विषयक मांगों की ओर किया।

सदस्य ट्रैक्शन रेलवे बोर्ड घनश्याम सिंह ने राज्यमंत्री श्री सिन्हा के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी देखरेख में रेलपथ के विद्युतीकरण का कार्य तेजी से किया जा रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे में अनेक खंडों के विद्युतीकृत हो जाने के बाद विद्युत कर्षण से गाड़ियों का संचलन शुरू हो चुका है। समारोह का संचालन पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय यादव ने तथा मंडल रेल प्रबंधक एसके झा ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail