MoU signed between Ministry of Railways and Maharashtra State Government for Coach Factory at Latur

रेलवे लातूर, महाराष्ट्र में एक कोच फैक्ट्री स्थापित करेगी। रेल मंत्रालय और महाराष्ट्र राज्य सरकार के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया। इससे “मेक इन इंडिया” योजना के अंतर्गत बहुत लाभ होगा। इस परियोजना से हजारों व्यक्तियों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा तथा अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के भी अनेक अवसर मिलेंगे। इससे मराठवाड़ा में उद्योग और औद्योगिक ईको-सिस्टम की कई सहायक इकाइयों को बढावा मिलेगा ।

मुंबई: श्री पीयूष गोयल, माननीय केंद्रीय रेल एवं कोयला मंत्री तथा श्री देवेंद्र फडणवीस, माननी मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र की उपस्थिति में श्री बी.के. अग्रवालअतिरिक्त सदस्य (पी.यू), रेलवे बोर्ड एवं श्री संजय सेठी, सी.ई.ओ., एम. आई.डी.सी ने क्रमश, रेल मंत्रालय एवं महाराष्ट्र राज्य सरकार की ओर से लातुर में रेल कोच  फैक्ट्री स्थापित करने के लिए आज समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये।

यह मुंबई में दिनांक 31/01/2018 को माननीय रेल एवं कोयला मंत्री और माननीय मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र के बीच हुई उच्च स्तरीय बैठक के अनुसरण में है।

इस अवसर पर श्री पीयूष गोयल माननीय रेल एवं कोयला मंत्री ने कहा कि करीब 500 करोड़ रुपये का निवेश पहले चरण के लिए है, लेकिन बड़ा विचार यह है कि इसे बड़ा दृष्टिकोण समझा जाए जिसकी कल्पना माननीय मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र श्री देवेंद्र फडणवीस ने की है। उन्होंने आगे कहा भारत के लिए महाराष्ट्र का योगदान वास्तव में उल्लेखनीय है चाहे वह करों के रुप में है या यह विभिन्न क्षेत्रिय विकास के रुप में है, चाहे वह एफ.डी.आई. या जी.डी.पी की वृद्धि या ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था की ओर आदि। श्री गोयल ने कहा कि भारतीय रेलवे ने मराठवाडा क्षेत्र के विकास मे यह एक छोटा सा योगदान दिया है और यह भागीदारी एक लंबा सफर तय करेगी।

इस परियोजना पर सभी की सहमति के साथ काम तेजी से उच्च प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा। लगभग 150 हेक्टेयर की अनुमानित भूमि क्षेत्र के साथ परियोजना की प्रथम चरण करीब 500 करोड़ रुपये होगी। 

इस परियोजना के लिए राज्य सरकार –

  1. रियायती दर पर जमीन उपलब्ध करायेगी
  2. इसके लिए जरूरी जमीन सहित रेल संपर्क की सुविधा देगी
  3. पानी, बिजली और राज्य जीएसटी पर स्थानीय करों पर उचित रियायत देगी
  4. सड़क संपर्क प्रदान करने में सहायता देगी
  5. सभी वैधानिक आवश्यकताओं की शीघ्र मंजूरी की सुविधा देगी

मराठवाड़ा, यह इलाका जहां लातूर स्थित है, महाराष्ट्र के सबसे पिछड़े क्षेत्रों में से एक है। लातूर में स्थापित होने जा रहे इस रेल कोच फैक्टरी से मेक इन इंडियाकी अवधारणा को गति मिलेगी और हजारों लोगों को प्रत्यक्ष  रोजगार का लाभ होगा तथा अप्रत्यक्ष रूप से भी रोजगार के अनेक अवसर मिलेंगे ।

इसके अलावा, मराठवाड़ा में एक औद्योगिक ईको-सिस्टम पैदा करेगी जो सूखाग्रस्त क्षेत्र में उद्योग विकसित करने में मदद करेगी ।

यह समाचार सुनील उदासी, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, मध्य रेल, छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस मुंबई द्वारा जारी किया गया है।


भारतीय रेल्वे महाराष्ट्रात लातूर येथे एक कोच फैक्ट्री स्थाप करणार  

रेल्वे मंत्रालय आणि महाराष्ट्र राज्य शासन यांनी का सामंजस्य करारावर हस्ताक्षर केलेमेक इन इंडियाचा खूप मोठा फायदा. प्रकल्पामुळे हजारो लोकांना प्रत्यक्ष रोजगार तर अप्रत्यक्ष रूपात रोजगाराच्या अनेक संधी उपलब्ध होतील. प्रकल्पामुळे राठवाड्यात पूरक उद्योग आणि औद्योगिक क्षेत्राला चालना मिळेल.

मुंबई: मैग्नेटिक महाराष्ट्र कार्यक्रम प्रसंगी माननीय केन्द्रीय रेल्वे आणि कोळसा मंत्री श्री पीयूष गोयल आणि महाराष्ट्राचे माननीय मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीस यांच्या उपस्तिथीमध्ये  रेल्वे मंत्रालय आणि महाराष्ट्र राज्य शासन यांच्यावतीने अनुक्रमे रेल्वे बोर्डाचे अतिरिक्त सदस्य श्री बी.के. अग्रवाल आणि महाराष्ट्र औद्योगिक विकास महामंडळाचे मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री संजय सेठी यांनी लातूर येथे  रेल्वे कोच फैक्ट्रीच्या स्थापनेसाठी आज मुंबईत सामंजस्य करारावर हस्ताक्षर केले.  माननीय केन्द्रीय रेल्वे आणि कोळसा मंत्री श्री पीयूष गोयल आणि महाराष्ट्राचे माननीय मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीस या दोघा मान्यवरांच्या  दिनांक 31/01/2018 रोजी मुंबईत झालेल्या का उच्च स्तरीय बैठकिच्या अनुषंगाने   हे पार पडले.

माननीय केन्द्रीय रेल्वे आणि कोळसा मंत्री श्री पीयूष गोयल या प्रसंगी म्हणाले कि, पहिल्या टप्प्यासाठी 500 कोटी रुपयांची गुंतवणूक असली तरी माननीय मुख्यमंत्र्यांच्या परीकल्पनेनुसार आणखी मोठी कल्पना स्पष्ट करण्याचा दृष्टीकोन आहे.  ते पुढे म्हणाले कि, भारताच्या जडण घडणीत महाराष्टाचे  योगदान  खरेच उल्लेखनीय आहे मग ते कराच्या रुपात असो व विविध क्षेत्रातील प्रगतीच्या रुपात असो,  अथवा थेट परदेशी गुंतवणूक असो किंवा एकूण देशांतर्गत उत्पादन वाढ असो किंवा अब्जावधी डॉलरच्या  अर्थव्यवस्थेच्या दिशेने वाटचाल असो. मराठवाडा विभागाच्या विकासात भारतीय रेल्वेचे अल्पसे योगदान असले तरी हे संबंध पुढील दीर्घकाळ टिकणारे असेल.

या प्रकल्पाचे काम जलद गतीने  आणि उच्च प्राथमिकतेच्या आधारावर मंजुरी प्रदान करण्यात येईल.  सुमारे 150 हेक्टर क्षेत्रफळाच्या  जमिनीवर पहिल्या टप्प्यात अंदाजे ५०० कोटी रुपयांचा हा प्रकल्प असेल.  या प्रकल्पा साठी राज्य शासन:

अ)  सवलतीच्या दराने  जमीन उपलब्ध करून दिली जाईल.
आ)  यासाठी आवश्यक जमिनीसह रेल्वे संपर्काची सुविधा दिली जाईल.
इ)  पाणी, वीज आणि राज्य जीएसटी इ. स्थानीय करांवर सवलत दिली जाईल.
ई)  सडक मार्गे संपर्काची सुवीधा देण्यात येईल.
उ)  सर्व वैधानिक परवानग्या त्वरित मंजुरी प्रदान करण्यात येईल.

लातूर हे मराठवाड्यात येते जो भाग महाराष्ट्रातील सर्वात मागास भाग समजला जातो. लातूर मध्ये स्थापना होणाऱ्या या  रेल कोच फैक्टरी मुळे मे इन इंडिया ला  गति मिळेल आणि हजारो  लोकांना प्रत्यक्ष रोजगार मिळेल तर  अप्रत्यक्ष रूपातही रोजगाराच्या अनेक संधी उपलब्ध होतील.   या व्यतिरिक्त  मराठवाड़ा सारख्या दुष्काळ क्षेत्रात औद्योगिक ईकोसिस्टम शृंखला तयार होऊन उद्योगात वाढ होण्यास मदत होईल.

सदर प्रसिध्‍दी पत्रक सुनील उदासी, मुख्‍य जनसंपर्क अधिकारी, मध्‍य रेल्‍वे, छत्रपती  शिवाजी महाराज टर्मिनस, मुंबई यांचे द्वारा जारी करण्‍यात आले आहे.

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail