Railways to undertake a month-long drive across the country to boost Safety measures

MUMBAI: Railways have viewed the unfortunate incident of rolling down of Ahmedabad – Puri Express in Sambalpur Division of East Coast Railway very seriously and appropriate action has been initiated to track the core cause of this untoward episode.

Shri Ashwani Lohani, Chairman, Railway Board expressed his regret and in a Press Statement issued on the incident stated that, this incident of rolling down of Ahmedabad – Puri express at Titlagarh is an isolated incident of staff negligence that is sincerely regretted by the Railways. While the concerned staff has been suspended and a high level enquiry has also been ordered, the railways remains committed to ensuring highest levels of safety in train operations. Railways have also ordered a one month long drive over the entire network for sensitizing the staff regarding the precautions to be taken to prevent such incidents. He further stated that, passenger safety followed by passenger comfort remains the highest priority of Indian Railways.

According to a press release issued by Shri Ravinder Bhakar, Chief Public Relations Officer of Western Railway, the subject of safety is continuously being monitored at the highest levels in the Railway Board, with the monitoring being done daily at the level of the Chairman, Railway Board.

संरक्षा मानदंडों में वृद्धि हेतु भारतीय रेल द्वारा लगातार प्रयास लवे चलायेगी पूरे देश में एक माह का अभियान

मुंबई: भारतीय रेलवे ने पूर्व तटीय रेलवे के सम्बलपुर मंडल पर अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस के रोलिंग डाउन की दुर्भाग्यपूर्ण घटना की समीक्षा की है एवं इसे काफी गम्भीरता से लिया है। इस अप्रत्याशित घटना के मूल कारणों की जाँच हेतु आवश्यक कार्रवाई प्रारम्भ कर दी गई है।

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष श्री अश्विरी लोहानी ने एक बयान जारी कर कहा कि टिटलागढ़ में अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस के रोलिंग डाउन होने की घटना कर्मचारियों की लापरवाही के कारण हुई, जिसके लिए रेलवे द्वारा खेद प्रकट किया जाता है। सम्बंधित कर्मचारी को निलम्बित कर उच्चस्तरीय जाँच के आदेश दे दिये गये हैं। बयान में कहा गया है कि ट्रेन परिचालन में संरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देने हेतु रेलवे प्रतिबद्ध है। ऐसी घटना की रोकथाम के लिए कर्मचारियों को सतर्कता बरतने के प्रति जागरूक करने हेतु सम्पूर्ण नेटवर्क पर रेलवे द्वारा एक माह का एक विशेष जागरूकता अभियान चलाने के भी आदेश जारी किये गये हैं। उन्होंने कहा कि समुचित यात्री संरक्षा तथा बेहतर यात्री सुविधाएँ हमेशा भारतीय रेल की सर्वोच्च प्राथमिकताएँ रही हैं और भविष्य में भी रहेंगी।

 पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविंद्र भाकर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष द्वारा प्रतिदिन व्यक्तिगत मॉनिटरिंग सहित रेलवे बोर्ड में संरक्षा के सभी पहलुओं की निरंतर उच्चस्तरीय मॉनिटरिंग की जाती है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail