Western Railway recovers Rs.7.43 Crore from 1.82 lakh cases of Ticketless travels during July 2018

MUMBAIWestern Railway conducted regular checks during July 2018, where in about 1.82 lakh cases of ticketless/irregular travel including unbooked luggage cases were detected, resulting in recovery of Rs. 7.43 crore, which is 7.77 % more than the corresponding month of last year. Besides, 270 beggars & 511 unauthorized hawkers etc. were apprehended, evicted, fined and 188 persons were sent to jail.

According to a press release issued by Shri Ravinder Bhakar, Chief Public Relations Officer of W.Rly, 217 checks were conducted during this period against touts and other anti-social elements by Western Railway’s Commercial Department. As a result, 258 persons were apprehended and prosecuted and fined under various sections of Railways Act. During the month of July, 2018, 55 school children above 12 years of age were detected traveling in ladies compartment of suburban trains and were removed from ladies compartment by Surakshini squad.

Western Railway regularly conducts drive against ticketless travellers. In its endeavour to provide better services to its bonafide rail users and also to curb ticketless travelling, WR has regularly been taking necessary steps. Senior Officers are closely monitoring the revenue loss due to ticketless travel and such other irregularities. WR urges all rail users to buy proper railway ticket and travel with dignity.

पश्चिम रेलवे द्वारा बिना टिकट यात्रा के विरुद्ध जुलाई, 2018 में सघन अभियान के अंतर्गत 1.82 लाख प्रकरणों में 7.43 करोड़ रु. जुर्माने की प्राप्ति

पश्चिम रेलवे द्वारा जुलाई, 2018 में बिना टिकट/अनियमित टिकट पर यात्रा करने वालों के विरुद्ध सघन अभियान चलाया गया।इसके परिणामस्वरूप बिना बुक किये गयेसामान के प्रकरणों सहित बिना टिकट यात्रा/अनियमित यात्रा के लगभग 1.82 लाख मामले पकड़े गये। इन मामलों में 7.43 करोड़ रु. जुर्माने स्वरूप प्राप्त किये गये, जो पिछले वर्षकी आलोच्य अवधि में वसूले गये जुर्माने से 7.77 प्रतिशत अधिक हैं। इसके अतिरिक्त 270 भिखारियों तथा 511 अनधिकृत फेरीवालों को रेल परिसर सेजुर्माना वसूल कर बाहर किया गया तथा 107 व्यक्तियों को जेल भेजा गया।  

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविंद्र भाकर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार जुलाई, 2018 के दौरान, दलालों तथा असामाजिक तत्त्वों के विरुद्धपश्चिम रेलवे के वाणिज्य विभाग द्वारा 217 जाँचें आयोजित की गईं। इनके परिणामस्वरूप 258 व्यक्तियों को पकड़ा गया तथा रेल अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहतमुकदमा चलाकर उनसे जुर्माना प्राप्त किया गया। जुलाई, 2018 के दौरान, सुरक्षिणी दस्ते द्वारा 12 वर्ष से अधिक उम्र के 55 स्कूली बच्चों को उपनगरीय ट्रेनों के महिला डिब्बों मेंसफ़र करते हुए पाया गया, जिन्हें वहाँ से हटाया गया।

पश्चिम रेलवे द्वारा बिना टिकट यात्रा करने वालों के विरुद्ध नियमित रूप से ऐसे सघन अभियान चलाकर कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाती रही है। अपने अधिकृत रेल उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधाएँ उपलब्ध कराने तथा बिना टिकट यात्रा में कमी लाने के उद्देश्य से पश्चिम रेलवे द्वारा हमेशा कारगर कदम उठाये जाते रहे हैं। पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा बिना टिकट यात्रा के कारण होने वाली राजस्व क्षति तथा इस तरह की अन्य अनियमितताओं पर कड़ी निगरानी रखी जाती है। पश्चिम रेलवे द्वारा यात्रियोंसे अपील की गई है कि वे उचित टिकट खरीदकर सम्मान के साथ यात्रा करें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail