WR, Anuprayaas and Cox & Kings Foundation join hands to make Borivali Station accessible for the Visually Impaired

BORIVALI GETS THE DISTINCTION OF BEING THE FIRST BLIND FRIENDLY STATION IN MUMBAI

MUMBAI: The everyday problems faced by visually impaired passengers at Borivali station is a thing of the past. Western Railway in association with Anuprayaas, the social organisation behind India’s first blind friendly station and Cox & Kings Foundation unveiled at Borivali Station on 28th September, 2018, which was inaugurated by a visually impaired passenger in the presence of Shri Gopal Shetty – Hon’ble Member of Parliament, Shri Thomas C Thottathil – Vice President, Corporate Communications & CSR, Cox & Kings and Shri Pancham Cajla – Founder & CEO of  Anuprayaas. This project involves a string of developments including Braille embossed railings on foot over bridges, Braille embossed entry and exit points,  Braille embossed railings in the subways and the comprehensively made Braille booklets  will together make Borivali station further accessible.

According to a press release issued by Shri Ravinder Bhakar – Chief Public Relations Officer of Western Railway, approval has been obtained for installation of this facility at Andheri station, which too will become a blind friendly station in near future. Subsequently, more stations will be gradually taken up to make them blind friendly. WR is constantly working on innovative ideas to make Mumbai stations and trains more accessible.. The project is aligned with Government of India’s initiative of Accessible India. Regular announcements and workshops will be conducted for WR’s staff, to train them to reach out to the passengers so that the facility is used optimally. This project is a step towards creating a travel environment that is easy, dignified and seamless.

The need analysis carried out through the survey in Mumbai threw light upon certain grave issues faced by the visually impaired passengers. Time taken to identify the platform was one of the problems that led the passengers to miss trains. Delay in identification also forced the commuters to board the moving train that increases the possibility of fatal accidents. The other factor that led to confusion for the commuters was the map and locations of various amenities at the station. The indicators as well as the booklet in Braille will be resolving both these issues, besides empowering the visually impaired passengers and saving them from communicating with strangers. The booklet also details out the emergency numbers. The booklets  are available with the Chief Booking Supervisor. Shri Bhakar said that this project has been undertaken in order to make Mumbai Rail network more accessible to all irrespective of their disabilities. Borivali station was strategically selected given it is used by the outstation passengers as well the Mumbai commuters. While the Western Railway has tactile floorings, the Braille indicators and booklets will serve as an add-on in making the station a wholesome accessible premise.

फोटो कैप्शनः- एक दृष्टिहीन यात्री बोरीवली स्टेशन पर ब्रेल लिपि में उकेरे गये चिह्न का उद्घाटन करते हुए। दूसरे चित्र में दिखाई दे रहे हैं माननीय सांसद श्री गोपाल शेट्टी, कॉक्स एंड किंग के कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन एंड सीएसआर विभाग के उपाध्यक्ष श्री थॉमस सी. थोट्टाथिल तथा अनुप्रयास के संस्थापक एवं सीईओ श्री पंचम कजला। Photo Caption: A visually impaired passenger inaugurating the Braille embossed signages at Borivali station. Also seen in the picture is Shri Gopal Shetty – Hon’ble Member of Parliament, Shri Thomas C Thottathil – Vice President, Corporate Communications & CSR, Cox & Kings and Shri Pancham Cajla – Founder & CEO of Anuprayaas

पश्चिम रेलवे, अनुप्रयास तथा कॉक्स एंड किंग फाउंडेशन के संयुक्त प्रयासों से बोरीवली को दृष्टिहीन मित्रवत स्टेशन बनाने का सपना हुआ साकार

मुंबई में बोरीवली पहला दृष्टिहीन मित्रवत स्टेशन बना

बोरीवली स्टेशन पर दृष्टिहीन यात्रियों को होने वाली असुविधाएँ अब बीते दिनों की बात हो गई है। 28 सितम्बर, 2018 को भारत के पहले दृष्टिहीन मित्रवत स्टेशन की सफलता के पीछे मुख्य भूमिका निभाने वाली सामाजिक संस्था अनुप्रयास तथा कॉक्स एंड किंग फाउंडेशन के सहयोग से बोरीवली दृष्टिहीन मित्रवत स्टेशन बन गया, जिसका उद्घाटन दृष्टिहीन यात्री द्वारा माननीय सांसद श्री गोपाल शेट्टी, कॉक्स एंड किंग के कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन एंड सीएसआर विभाग के उपाध्यक्ष श्री थॉमस सी. थोट्टाथिल तथा अनुप्रयास के संस्थापक एवं सीईओ श्री पंचम कजला की उपस्थिति में किया गया।

बोरीवली स्टेशन ब्रेल लिपि से चिह्नित पैदल ऊपरी पुलों की रेलिंग, आगमन एवं निकास द्वारों, सबवे की रेलिंग तथा व्यापक रूप से बनी हुई ब्रेल लिपि में लिखी बुकलेट के माध्यम से दृष्टिहीनों के लिए मित्रवत बनाया गया है।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविंद्र भाकर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार अंधेरी स्टेशन पर ऐसी ही सुविधाओं को उपलब्ध कराने का अनुमोदन प्राप्त हो चुका है, जिससे यह स्टेशन भी दृष्टिहीन मित्रवत हो जायेगा। बाद में अन्य स्टेशनों को भी धीरे-धीरे दृष्टिहीन मित्रवत बनाया जायेगा। पश्चिम रेलवे मुंबई के स्टेशनों और ट्रेनों को और सुगम बनाने के लिए लगातार अभिनव प्रयोगों पर कार्य करता रहा है। यह योजना भारत सरकार के सुगम्य भारत अभियान के अंतर्गत एक प्रयास है। पश्चिम रेलवे के कर्मचारियों को यात्रियों तक इन सुविधाओं को पहुँचाने के बारे में प्रशिक्षित करने के लिए वर्कशॉप आयोजित की जायेगी तथा स्टेशनों पर नियमित घोषणा की जायेंगी, जिससे इन सुविधाओं को ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल हो सके। यह परियोजना यात्रा को सुगम बनाने की दिशा में एक महत्त्वपूर्ण कदम है, जो बहुत ही आसान, उन्नत एवं समेकित है।

दृष्टिहीन यात्रियों को होने वाली परेशानियें तथा उनकी आवश्यकताओं के बारे में मुंबई में एक सर्वे किया गया था। इन परेशानियों में एक परेशानी यह थी कि प्लेटफॉर्मों को पहचान करने में समय लगता था, जिससे उनकी ट्रेन छूट जाती थी। इस देरी के कारण यात्री चलती ट्रेन को पकड़ने की कोशिश करते थे, जिससे उनके चोटिल होने की सम्भावनाएँ बढ़ जाती थीं। दूसरी समस्या यात्रियों को स्टेशनों पर विभिन्न सुविधाओं की लोकेशनों और स्टेशन के मैप के बारे में सही-सही नहीं पता लगता था। ब्रेल लिपि में इंडिकेटर तथा लिखी गई बुकलेट से ये दोनों समस्याएँ हल हो जायेंगी। साथ ही यह दृष्टिहीन यात्रियों को सशक्त बनायेगी तथा अनजान लोगों से पूछताछ के समय में बचत करेगी। इस बुकलेट में आपातकालीन नम्बरों का विवरण भी दिया गया है। यह बुकलेट चीफ बुकिंग सुपरवाइजर के पास उपलब्ध है। श्री भाकर ने बताया कि यह योजना मुंबई रेल नेटवर्क को सभी यात्रियों विशेषकर असशक्त यात्रियों को अनुकूल बनायेगी। बोरीवली स्टेशन का चुनाव इसलिए किया गया था, क्योंकि यहाँ पर मुंबई से बाहर जाने वाले यात्री के साथ मुंबई उपनगरीय खंड के यात्री भी मिलते हैं। पश्चिम रेलवे द्वारा उपलब्ध कराई गई टेक्टाइल फ्लोरिडग ब्रेल इंडिकेटर और बुकलेट से यह स्टेशन सम्पूर्ण सुविधा युक्त बन जायेगा।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail