Record Achievement: WR completes 305 Km long Udhana-Jalgaon Doubling/Electrification in Record Time at Rs.2447 Crore

The dual gauge Udhana-Jalgaon section – a project of national importance in terms of commercial and geographical advantage, has begun functioning from 22nd July, 2018.
Shri A.K. Gupta- General Manager of Western Railway discussing the technical details of rail operations with the on-duty Station Master of Vyara station, during his visit to review Doubling Project of Udhana-Jalgaon section project under the Mumbai Division of Western Railway. पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री ए. के. गुप्ता मुंबई मंडल के अंतर्गत उधना-जलगाँव रेल खंड की दोहरीकरण रेल परियोजना का जायज़ा लेने हेतु किये गये दौरे में व्यारा स्टेशन के ऑन ड्यूटी स्टेशन मास्टर से रेल परिचालन की तकनीकी जानकारी पर चर्चा करते हुए।

MUMBAI: Indian Railways under the efficient and experienced leadership of Hon’ble Railway Minister, Shri Piyush Goyal, is moving forward in aspects of speed, progress, security, safety and prosperity and the Western Railway is also marching ahead with the similar pace set out by the Ministry in all these areas and aiming to contribute as much as it can. Despite facing various adverse circumstances and situation, Western Railway has not only achieved significant accomplishments during the last 15 months but many important major Railways projects of national importance have received momentum to improve infrastructure for a brighter future.

According to a press release issued by Shri Ravinder Bhakar – Chief Public Relations Officer of Western Railway, eversince Shri A.K. Gupta took over the important post of General Manager last year in May 2017, Western Railway has witnessed remarkable and radical changes in the overall working system and functioning.  With the new energetic guidance & leadership at national and zonal levels as well as initiatives taken by General Manager Shri Gupta, several projects like Udhana-Jalgaon Doubling Project got good momentum. The total length of the project was about 305 km, where almost 157 km of the project was fast tracked and was executed in just one and a half years, due to which the entire project has now been completed and has been commissioned for trains operations from 22nd July, 2018.

Many key rail projects have been put on the ‘fast track’ and its latest example is the Doubling Project of Udhana-Jalgaon section under Mumbai Division of Western Railway, which is commendable for its completion in a record period of time for completion and commissioning.

It is worth mentioning that in the initial phase of the project in November, 2012  out of the total 305 km, only 45 km long doubling of line was done involving 25 km of Amalner – Dharangaon and 20 km of Vyara – Ukai Songhad together, but after that during the period from October 2014 to July 2016, a total of 103 km of doubling of rail segments including, Ukai Songhad – Chinchpada (40 km), Bardoli – Vyara (29 km), Dharangaon – Paldhi (18 km) and Chalthan – Bardoli (16 km) were completed. Similarly, sections Chinchpada – Khndbara (18 km), Khandbara – Nandurbar (23 km), Hol – Amalner (33 km), Dondaicha – Hol (28 km), Paldhi – Jalgaon (10 km), Udhana – Chalthan (11 km) and Nandurbar – Dondaicha (34 km) cumulating a total of 157 km were possible in the last one and a half year’s period from February 2017 to July 2018 where the total length of the Udhana – Jalgaon rail section is approximately 305 km. Thus, more than 50% of the project was achieved under the smooth execution and able guidance of W.Rly General Manager Shri A.K. Gupta. Due to his sheer diligence at an individual level, proper monitoring, ensuring coordination between different departments and correct decisions taken on time, acceleration of the said project at grassroots was possible only because of these reasons. It is a matter of great pride for Western Railway under the keen guidance of Shri A.K. Gupta to grow bountiful and go ahead with such projects. For proper and effective implementation of this project, General Manager of Western Railway visited various places on this railway section from time to time to review the work being done at ground level in addition with continuous monitoring from the Headquarters at Churchgate and it was made sure that all practical difficulties were eliminated by finding better solutions.

Shri Bhakar stated that the successful completion of this important Doubling Project has resulted in opening a new chapter in the series of accomplishments contributing to the basic structure of Western Railway organisation. With the recent completion of the final link of the doubling work between the 34 km long stretch of Nandurbar-Dondaicha section, the dualization project of Udhana-Jalgaon section has been completed in record time. The doubling of Nandurbar –Dondaicha section has successfully commissioned with Non-Interlocking work of all five stations by simultaneously working at each station day and night for 48 hours on 22nd July, 2018 after 15 days of block in which 15 new turnouts were inserted using T28 machine with Unimat, tower wagons and a combined hardworking effort of 200-250 labourers from Engineering, Electrical and Signal & Telecommunication departments.

The Doubling with Electrification of Udhana – Jalgaon section connects four districts, i.e., Surat, Nandurbar, Dhule and Jalgaon covering Maharashtra and Gujarat states. A total of 380 bridges have been made on this route consisting of 1 important, 52 major and 327 minor bridges. No passenger amenities have escaped while completing this project. Keeping in mind of passenger amenities a total of 66 high level platforms, 24 medium level platforms, 7 rail level platforms, 31 Foot Over Bridges, platform shelters, toilets, waiting rooms, etc. have been provided at various stations. About 60,000 core km of outdoor cable has been installed, 34,000 core km of indoor cable, 400 new signals, 1200 new LED lights, 400 point machines, 3400 nos. glued joints, 20,000 nos. of relays, 100 nos. of track circuits, 50 IPS etc. have been provided to fulfill the project. The total cost of the project is Rs. 2446.85 crore. Under this project, there are a total of 33 ‘B’ and 11 ‘D’ class station on Udhana-Jalgaon section. As per the instructions of General Manager Shri Gupta, it was ensured that the work should be carried out with full satisfaction in accordance with the scheme and following all safety instructions. It is worth mentioning that 209 kms of doubling has been completed and commissioned in the last 2 and half years which is an excellent pace in comparison to any of the doubling project on Indian Railways.

Major benefits of the completion of the Project:

  • With the completion & commissioning of Udhana–Jalgaon Doubling project, prospects of development increases for the locals residing in the area by opening doors for bigger opportunities through connectivity.
  • The entire Udhana-Jalgaon section will provide an East-West corridor and enable faster movement of trains as well as introduction of additional goods and passenger trains on this route benefitting local residents in this area.
  • Section capacity increases and punctuality of trains will be enhanced.
  • Operations will be more streamlined.
  • It will act as a catalyst for development of the areas of Nandurbar, Vyara, Dharangaon and other places on the section.
  • It will ease the movement of freight due to enhanced track capacity.
  • It will provide link for north Maharashtra with the under construction Dedicated Freight Corridor.
पश्चिम रेलवे की 350 कि.मी. लम्बी उधना-जलगाँव विद्युतीकरण सहित दोहरीकरण परियोजना 2447 करोड़ रु. की लागत से हुई रिकॉर्ड समय में पूर्ण. उधना-जलगाँव दोहरीकृत रेल खंड पर 22 जुलाई, 2018 से रेल यातायात शुरू

माननीय रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल के कुशल एवं अनुभवी नेतृत्व में भारतीय रेल प्रणाली इन दिनों विभिन्न स्तरों पर महत्त्वपूर्ण कायाकल्प के दौर से गुज़रकर गति, प्रगति, सुरक्षा, संरक्षा और समृद्धि की नई राहों पर अग्रसर है और इसी क्रम में पश्चिम रेलवे भी अपने हरसम्भव बेहतर प्रयासों के ज़रिये अपना अहम योगदान दे रही है। अनेक विपरीत परिस्थितियों के बावजूद पश्चिम रेलवे ने पिछले 15 महीनों के दौरान न सिर्फ अनेक अहम उपलब्धियाँ हासिल की हैं, बल्कि उज्ज्वल भविष्य के लिए इन्फ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने हेतु पश्चिम रेलवे के विभिन्न इलाकों में जारी कई महत्त्वपूर्ण रेल परियोजनाओं को भी उल्लेखनीय गति मिली है। अहम रेल परियोजनाओं के ‘फास्ट ट्रेक’ पर अग्रसर होने का नवीनतम उदाहरण पश्चिम रेलवे के मुंबई मंडल के अंतर्गत उधना-जलगाँव रेल खंड की दोहरीकरण परियोजना है, जिसे रिकॉर्ड समय में पूर्ण कर एक उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की गई है।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविंद्र भाकर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री ए. के. गुप्ता द्वारा पिछले वर्ष मई, 2017 में महाप्रबंधक जैसे महत्त्वपूर्ण पद का कार्यभार ग्रहण करने के बाद पश्चिम रेलवे के प्रशासनिक तंत्र की समग्र कार्य प्रणाली में लगातार उल्लेखनीय रूप से आमूलचूल परिवर्तन हुआ है। महाप्रबंधक द्वारा की गई पहल के साथ-साथ राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय स्तरों पर नये ऊर्जावान नेतृत्व के कुशल मार्गदर्शन का फायदा समूची रेल प्रणाली की तरह उधना-जलगाँव दोहरीकरण परियोजना को भी मिला और कुल लगभग 305 कि.मी. लम्बी इस परियोजना के 157 कि.मी. रेल खंड के दोहरीकरण कार्य को पिछले सिर्फ डेढ़ वर्ष में फास्ट ट्रेक पर अंजाम दिया गया, जिसकी बदौलत यह समूची परियोजना पूर्ण होकर 22 जुलाई, 2018 से इस दोहरीकृत रेल खंड पर रेल यातायात का परिचालन शुरू कर दिया गया है।

यह उल्लेखनीय है कि इस परियोजना के शुरुआती चरण में नवम्बर, 2012 तक कुल लगभग 305 कि.मी. में से अमलनेर-धरणगाँव के 25 कि.मी. और व्यारा-उकाई सोनगढ़ के 22 कि.मी. को मिलाकर सिर्फ 45 कि.मी लम्बी लाइन का ही दोहरीकरण हो पाया था, लेकिन उसके पश्चात अक्टूबर, 2014 से जुलाई, 2016 की अवधि के दौरान उकाई सोनगढ़-चिंचपाड़ा (40 कि.मी.), बारडोली-व्यारा (29 कि.मी.), धरणगाँव-पालढी (18 कि.मी.)तथा चलथान-बारडोली (16 कि.मी.) सहित कुल 103 कि.मी. लम्बे रेल खंडों का दोहरीकरण पूरा किया गया। इसी प्रकार फरवरी, 2017 से जुलाई, 2018 की पिछले डेढ़ वर्ष की अवधि के दौरान चिंचपाड़ा-खांडबारा (18 कि.मी.), खांडबारा-नंदुरबार (23 कि.मी.), होल-अमलनेर (33 कि.मी.), डोंडाइचा-होल (28 कि.मी.), पालढी-जलगाँव (10 कि.मी.), उधना-चलथान (11 कि.मी.) तथा नंदुरबार-डोंडाइचा (34 कि.मी.) सहित कुल 157 कि.मी. लम्बी रेल लाइनों का दोहरीकरण पूरा किया गया, जो उधना-जलगाँव रेल खंड की कुल लम्बाई लगभग 305 कि.मी. का 50 प्रतिशत से भी अधिक है। यह अहम उपलब्धि पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री ए. के. गुप्ता द्वारा इस परियोजना के सुचारु क्रियान्वयन में व्यक्तिगत स्तर पर लगातार गहरी रुचि लेकर समुचित मॉनिटरिंग करने, विभिन्न विभागों में परस्पर समुचित समन्वय सुनिश्चित करवाने तथा आवश्यक निर्णय समय पर लेने की प्रक्रिया तय कर ज़मीनी स्तर पर हर कार्य को गति प्रदान करवाने के फलस्वरूप ही सम्भव हो पाई है। महाप्रबंधक श्री ए. के. गुप्ता के अनुभवी नेतृत्व में इस प्रकार की परियोजनाओं के साथ आगे बढ़ना पश्चिम रेलवे के लिए काफी गर्व की बात है। इस परियोजना के समुचित और यथाशीघ्र क्रियान्वयन के लिए पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री गुप्ता द्वारा प्रधान कार्यालय, चर्चगेट से निरंतर मॉनिटरिंग के अलावा ज़मीनी स्तर पर हो रहे कार्य का जायज़ा लेने के लिए समय-समय पर इस रेल खंड के विभिन्न स्थानों के दौरे भी किये गये और सभी तरह की व्यावहारिक दिक्कतों का बेहतर समाधान सुनिश्चित किया गया।

श्री भाकर ने बताया कि इस अहम दोहरीकरण परियोजना के सफलतापूर्वक पूर्ण होने के फलस्वरूप पश्चिम रेलवे संगठन की बुनियादी संरचना से जुड़ी उपलब्धियों की श्रृंखला में में एक नया अध्याय जुड़ गया है। परियोजना की अंतिम कड़ी के रूप में 34 कि.मी. लम्बे नंदुरबार-डोंडाइचा खंड के बीच दोहरीकरण कार्य की हाल ही में पूर्णता के साथ मुंबई मंडल के 305 कि.मी. के उधना-जलगाँव खंड की दोहरीकरण परियोजना को रिकॉर्ड समय में पूरा कर लिया गया है। नंदुरबार-डोंडाइचा खंड का दोहरीकरण 15 दिनों के ब्लॉक के बाद 22 जुलाई, 2018 को 48 घंटे तक दिन-रात कार्य करते हुए सभी पाँच स्टेशनों पर नॉन इंटरलॉकिंग कार्य के साथ सफलतापूर्वक स्थापित किया गया। इसमें 15 नये टर्नआउट को यूनीमैट, टावर वैगन तथा इंजीनियरी, बिजली और सिगनल एवं दूरसंचार विभाग से 200-250 मजदूरों के सामूहिक कठिन प्रयासों से टी-28 मशीन के उपयोग से इंसर्ट किया गया।

उधना-जलगाँव खंड के दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण की परियोजना महाराष्ट्र एवं गुजरात राज्य के 4 जिलों सूरत, नंदुरबार, धुले एवं जलगाँव को जोड़ती है। इस रूट पर कुल 380 पुल बनाये गये हैं, जिसमें एक महत्त्वपूर्ण, 52 बड़े एवं 327 छोटे पुल शामिल हैं। इस परियोजना को पूरा करते समय किसी भी यात्री सुविधा को नहीं छोड़ा गया है। यात्री सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए कुल 66 उच्च स्तर प्लेटफॉर्म, 24 मध्यम स्तर प्लेटफॉर्म, 7 रेल स्तर प्लेटफॉर्म, 31 फुट ओवर ब्रिज, प्लेटफॉर्म शेल्टर, टॉयलेट, प्रतीक्षालय आदि की व्यवस्था विभिन्न स्टेशनों पर की गई है। आउटडोर केबल का 60,000 कोर किमी इंस्टॉल किया गया है। इस परियोजना को पूरा करने के लिए इंडोर केबल का 34,000 कोर किमी, 400 नये सिगनल, 1200 नये एलईडी लाइट, 400 पॉइंट मशीन, 3400 ग्लुड ज्वाइंट, 20,000 रिले, 1000 ट्रैक सर्किट, 50 आईपीएस आदि उपलब्ध कराये गये हैं। इस परियोजना की कुल लागत 2446.85 करोड़ रु. है। इस परियोजना के अंतर्गत उधना-जलगाँव रेल खंड पर कुल 33 ‘बी’ क्लास तथा 11 ‘डी’ क्लास स्टेशन हैं। महाप्रबंधक श्री गुप्ता के निर्देशानुसार सुनिश्चित किया गया कि कार्य को योजना के अनुसार एवं सभी संरक्षा अनुदेशों का पालन करते हुए पूर्ण संतुष्टि के साथ किया जाये। इस खंड की स्थापना के साथ ही पूर्ण उधना-जलगाँव खंड के रूप में पूरब-पश्चिम के बीच एक अहम दोहरीकृत रेल कोरीडोर उपलब्ध हो गया है। अब इस रूट पर ट्रेनों के तेज संचालन के साथ-साथ अतिरिक्त ट्रेनों की शुरुआत भी की जा सकती है, जिससे इस क्षेत्र के स्थानीय निवासियों को काफी सुविधा होगी। यह उल्लेखनीय है कि पिछले ढाई वर्षों में 209 कि.मी. लम्बे खंड के दोहरीकरण का कार्य पूरा एवं स्थापित किया जा चुका है, जो भारतीय रेलवे पर किसी भी दोहरीकरण की तुलना में एक श्रेष्ठ उपलब्धि है।

इस परियोजना के पूर्ण होने से मुख्य लाभः

  • उधना-जलगाँव दोहरीकरण परियोजना के पूर्ण होने तथा स्थापना के साथ ही कनेक्टिविटी के ज़रिये बड़े अवसरों द्वार खुलने से इस क्षेत्र के स्थानीय निवासियों के लिए विकास की व्यापक सम्भवना।
  • सम्पूर्ण उधना-जलगाँव खंड पूरब-पश्चिम कॉरीडोर इस क्षेत्र के स्थानीय निवासियों को लाभ पहुँचाते हुए इस रूट पर अतिरिक्त माल एवं पैसेंजर ट्रेनों की शुरुआत के साथ-साथ ट्रेनों का तेज गति से परिचालन सुनिश्चित करेगा।
  • इस खंड की क्षमता एवं ट्रेनों की समयपालनता में वृद्धि होगी।
  • परिचालन अधिक सरल एवं कारगर होगा।
  • यह नंदुरबार, व्यारा, धरणगाँव तथा इस खंड के अन्य स्थानों के विकास में उत्प्रेरक का कार्य करेगा।
  • ट्रैक क्षमता में वृद्धि होने से माल परिवहन में आसानी होगी।
  • यह निर्माणाधीन डेडिकेटेड फ्रेट कॉरीडोर के साथ उत्तरी महाराष्ट्र हेतु एक महत्त्वपूर्ण लिंक उपलब्ध करायेगा।
Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail